Kodo - kondel Yanpam bapla Ari - Chali lekate akowa baapla kami doko puraw eed kana. Onka ge kom khoroch te gapal maraw kate Bapla kodo haadam bariyat bapla Arri - Chali ko bhebaar ed kana ar bapla re khoroch dareya lekaan kodo sange bariyat ar duwar itud sindur bapla Ari - Chali lekate ko bapla kana.

Tumdah and Tamak – Santals musical instruments

Tumdah and Tamak – Santals musical instruments

Tumdah and Tamak – Santals musical instruments :- लोक नृत्य और गीत संताली संस्कृति का हिस्सा हैं। संताल को नाचने और गाने का बहुत शौक होता है। यही कारण है कि संतालों में इतने त्यौहार होते हैं। त्योहारों पर, संताल एक साथ आते हैं और पारंपरिक नृत्य और गायन में उत्सुकता से भाग लेते हैं।

संताल के अपने वाद्य यंत्र होते हैं। सभी वाद्ययंत्रों में से प्राथमिक वाद्ययंत्र तमक और तुमदाह हैं। तमक और तुमदाह का उपयोग धार्मिक समारोहों, त्योहारों और समारोहों में किया जाता है। अन्य संगीत वाद्ययंत्रों में तिरियाव (बांसुरी), बनम, चोलचुली, घोली, झुमका और करताल शामिल हैं।

ब्लॉग के इस भाग में, हम केवल तमक और तुमदाह को ही कवर करेंगे। हम बाकी उपकरणों को ब्लॉग के अगले भाग में कवर करेंगे।

SANTALI LOVE SHAYARI

TAMAK तमाक

तमक एक उल्टे गुंबद के आकार का ड्रम है, जो थोड़ा आधार की ओर इशारा करता है और इसकी एक सपाट और गोलाकार सतह होती है। ड्रम का शरीर धातु से बना होता है और ड्रम का सिर या झिल्ली भैंस की खाल या गाय की खाल से बना होता है। ड्रमहेड का व्यास 14 से 18 इंच के बीच होता है।

ड्रम की परिधि के साथ छिपाना या ड्रमहेड कसकर फैला हुआ है। पूरी व्यवस्था भारी है। पूरा सेटअप एक बड़ा खोल या बास ड्रम बनाता है। जब ड्रम स्टिक से मारा जाता है, तो ड्रम तेज बास की आवाज करता है। ड्रम खिलाड़ी के गले से लटका हुआ है। ड्रमस्टिक लकड़ी के बने होते हैं। तमक पारंपरिक संताली संगीत का आवश्यक वाद्य यंत्र बनाता है।

तमक एक कटोरे के आकार का केतली ड्रम है। इसका शरीर पतली धातु की चादरों से बना होता है, जिसे बैल की खाल से ढका जाता है और एक जोड़ी डंडों से पीटा जाता है।

TUMDAK  तुमदा

तुमदा एक पतला बेलनाकार ड्रम है जिसके दोनों तरफ ड्रमहेड होते हैं, बायां ड्रमहेड व्यास में बड़ा होता है और बायां ड्रम छोटा होता है। ड्रमहेड गाय, भैंस या बकरी की खाल से बना होता है। तुमदाह का शरीर मिट्टी से बना है। तुमदाह का पट्टा कपड़े या चमड़े से बनाया जाता है। स्ट्रैप की मदद से ड्रम को खिलाड़ी के गले में लटकाया जाता है। तमक के विपरीत, तुमदाह को नंगे हाथों से मारा जाता है। तमक और तुमदाह का प्रयोग एक साथ किया जाता है।

ढोल की थाप से बनाई गई आकर्षक लय आसपास के इलाकों के ग्रामीणों को आकर्षित करती है, और किसी को भी इस धुन पर नचा सकती है। दो प्राथमिक संगीत वाद्ययंत्र तमक और तुमदा संताल लोगों के जीवन में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। विवाह समारोह हो या त्योहार या कोई अन्य धार्मिक सभा, इन दोनों के बिना कोई कार्यवाही नहीं हो सकती।

तुमदक  जिसे मडोल के नाम से भी जाना जाता है, एक दो मुंह वाला ड्रम है, जिसमें शरीर की भुरभुरी मिट्टी होती है। दोनों सिरों को बायां एक दाएं से अधिक चौड़ा बैल की खाल से ढका हुआ है, और बाएं और दाएं हाथ से पीटा गया है।

TIRIO तिरियो

संतालों का सबसे पसंदीदा वाद्य, सात छेद वाली बांस की बांसुरी है। इसे प्रेम और प्रलोभन के प्रतीक के रूप में देखा जाता है।  संथाली बहास में बसुरे को  टियोरयो  कहते हैं, यह खोकले पटेल बन्स इबन्या जाता है। बस 1 से 2 फिट के होते है। इसका एक बहग कुहला तथा दशहरा भाग बंद रहता है। बंद में एक के साथ है, खुले भाग में साथ छेड रहते हैं, साथ छेड में हैं, उनगलिया बिथे जाते हैं। जब एक छेद से फुका जाता है, तो साथ छेद से हवा निकलते हैं, या तुरु, रु, तुरु, रु आवाज होते हैं। गीत के सुर रग उनगले के एक ऊपर आला करता है, या तुरु, रु, तुरु, रु के करन सी ‘तिर्यो’ नाम दिया गया है।

DHODRO BANAM धोड्रो बनम

एक झुका हुआ वाद्य यंत्र है, जो एक पेड़ की लकड़ी के एक लट्ठे से उकेरा जाता है, जो संताल की कहानी के अनुसार, एक इंसान के मांस से विकसित होता है। इसमें एक पेट (लाख) होता है, जो एक जानवर की खाल से ढका होता है। जिस पर पुल (सदम, जलाया, घोड़ा), एक खुली छाती (कोरम), एक छोटी गर्दन (हॉटोक), और एक सिर (बोहोक) होता है, जो अक्सर खूबसूरती से होते हैं। मानव सिर के आकार में नक्काशीदार, मनुष्यों या जानवरों के पूरे समूह के एक जोड़े। यदि सिर है,  तो ट्यूनिंग खूंटी कान (लुटर) में डाली जाती है,  और आंत का तार मुंह से निकलता है।

SANTALI LOVE SMS

PHET BANAM फेट बनम

तीन या चार तारों वाला एक झल्लाहट रहित तार वाला वाद्य यंत्र है। कमर वाला पेट पूरी तरह से जानवरों की खाल से ढका होता है।

JUNKO जंको

टखने की घंटियों की ध्वनियों का एक ओनोमेटोपोइक विवरण है, जो कलियों के आकार में धातु में डाली जाती है, और नर्तकियों के पैरों से बंधी होती है, जहाँ से वे लयबद्ध ध्वनियाँ उत्पन्न करते हैं।

SINGA सिंगा

Tumdah and Tamak – Santals musical instruments :- शादियों में जोड़े में बजाया जाने वाला एक एस-आकार का पवन वाद्य यंत्र है। पीतल या तांबे से बना, यह आमतौर पर तीन टुकड़ों में बनाया जाता है, जिसके अंत में एक मुखपत्र होता है और दूसरे पर एक शंकु होता है।

SKWA सकवा

संथाली भाषा में स्क्वा को सकवा कहते हैं। याह जमानत, भाइयों, बकरे या जंगलो के गाने से बन जाता है। गाओ के बिछो बिच एक छेद बन जाता है, जब छेड से फुका जाता है, टब तू आवाज होते हैं तू तू पता निकलने करना इसे तुराहे कहते हैं।

KENDRE केंद्र

संथाली भाषा में केंद्र को बनम  कहते हैं। यह लकड़ी का बना जाता है। केंद्र 1.5 से लेकर 2 फिट लंबा होता है। एक भाग मोटा और दशहरा भाग पाताल रहता है। मोटे भाग को कोहकला है, या हमें दिया जाता है। उसके ऊपर से घोडे के बाल या कावड़ा  बंद दिया जाता है। एक दहनुस्मा लकड़ी में भी घोड़ा का बाल बांध दिया जाता है, जिसे धनुस कहा जाता है। बजने के समय एक पाटली लकड़ी घोड़े के पत्ती है, बाल घिसने से के को के आवाज आती है उसे उपयोग कांद्रे कहते हैं।

GHANTA घंटा

Tumdah and Tamak – Santals musical instruments :- यह पाता सिपता लोहे का बना जाता है, घंटा एक पाताल लक्दे से बज्या जाता है। इस्के आवाज टिंग, टिंग, टंडग, टंडग जिसे होते हैं।

MADAR मदार

संथाली भाषा में, मदर को तुम्दा  कहते हैं। याह 2 से 5 फिट का होता है। मदार मिते के खोल पर चमड़ा मुदकर बन गया जाता है। यह टीका गोलकर लिया होता है। का छमड़ा मोटा रहता है, पाताल बहग या दहिने भाग को तूड़  तथा मोटे बहग को धतूर  कहते हैं।

NAGDA नागदा

संथाली भाषा में नागदा को तमक कहते हैं। यह पाताल लोहे के चादर से बन गया जाता है। नागदा का निकला बहग साकिरन और ऊपरी भाग छोड़ा, गोलाकर या खुला रहता है। मोटे नगड़ा से केलिये दो पाटली लकड़ी दे जाति है, इसके लम्बे 1 फिट का होता है। नागदा वध मदार या कर के साथ बजाता है।

DHOL ढोल

Tumdah and Tamak – Santals musical instruments :- संथाली में ढोल को दुलके कहते हैं। यह अधिकार आम, कथा या गमहर लक्दे से बनता है, या गोले चार फूट और लामबे दो फूट के होते है, लखडे और हट से बअज्या जाता है।

KARHA करहा

संथाली भाषा में करहा को छोड छोडे कहा जाता है। याह 2 से 3 फिट का होता है। कहा पेड के तन या टिन चादर से बन जाता है, या खोकला या गोलकर रहता है। दोनों भागो को कामदे से मोडा जाता है, लंबे समय तक होते हैं, इसे बजने से चाड, चाड के आवाज निकलते हैं, इसलिय इसे छोडकोड कहते हैं।

[ratings]

Leave a Comment

Your email address will not be published.