sidhu and kanhu image

Sidhu Murmu & Kanhu Murmu – The Indian Freedom Struggle

Sidhu Murmu & Kanhu Murmu | The Indian Freedom Struggle

सिद्धू और कान्हू ऐसे नाम हैं जिनसे लगभग सभी परिचित हैं। इतिहासकारों का मानना ​​है कि सिद्धू कान्हू पहले स्वतंत्रता सेनानियों में से थे। इस तथ्य से इनकार नहीं किया जा सकता है कि आदिवासी समुदाय ने स्वतंत्रता संग्राम में प्रमुख भूमिका निभाई थी। अंग्रेज भारत में व्यापार के उद्देश्य से उतरे लेकिन भारत के संसाधनों पर नजर रखते हुए वे यहां एक औपनिवेशिक शासन स्थापित करना चाहते थे।

SANTALI LOVE SHAYARI

लेकिन औपनिवेशिक शासन स्थापित करने के लिए भारतीयों की वफादारी जीतनी होगी। अंग्रेजों का मानना ​​था कि कुछ शिक्षित भारतीय आसानी से पुरस्कार देकर उनका पक्ष लेने का लालच दे सकते हैं। और ऐसा हुआ भी। अंग्रेजों ने नए नियम और नीतियां थोपना शुरू कर दिया। उन नीतियों में भूमि सुधार प्रमुख थे। जमींदारी व्यवस्था ब्रिटिश भारत के बंगाल, बिहार और ओडिशा प्रांत में लागू की गई थी।

भूमि सुधारों के कारण जमींदारों को ब्रिटिश सरकार को भारी कर देना पड़ा। सरकारी अधिकारियों का भार ढोने के लिए मजदूरों को कोड़े मारे गए। अंग्रेजों के क्रूर व्यवहार का विरोध करने की किसी की हिम्मत नहीं हुई। उस समय भारत में क्रूर ब्रिटिश शासन जोरों पर था।

यह इस समय था जब सिद्धू मुर्मू और कान्हू मुर्मू को सरकार के अन्यायपूर्ण कार्यों का एहसास हुआ। दोनों भाई रामायण के लव और कुश की तरह बड़े हुए थे। वे बचपन से ही कुश्ती और शिकार में माहिर थे। हालाँकि उनके पास कोई औपचारिक शिक्षा नहीं थी, फिर भी वे संकट में पड़े लोगों की मदद के लिए हाथ बढ़ाने में नहीं हिचकिचाते थे। उनकी उदारता ने उन्हें सबका विश्वास और सम्मान दिलाया।

SANTALI BAPLA SHAYARI

अपनी युवावस्था में, सिद्धू कान्हू ने महसूस किया कि अंग्रेजों के अत्याचारपूर्ण कृत्य से स्थानीय ग्रामीणों में अशांति फैल गई थी। जमींदारी व्यवस्था के तहत, सरकार केवल किसानों से अतिरिक्त कर निकालती थी। इसके अलावा, अगर किसी ने काम करने से इनकार किया, तो उसे कोड़े का सामना करना पड़ा। दृश्यों का संबंध सिद्धू कान्हू से है।

सिद्धू और कान्हू ने अत्याचारी ब्रिटिश शासन के खिलाफ आवाज उठाने का संकल्प लिया। दोनों ने ग्रामीणों को बिहार के ‘भगनाडीहा’ नामक गांव में बैठक के लिए बुलाया। तुमदाह का उपयोग संदेश को गांवों के सुदूर छोर तक पहुंचाने के लिए किया जाता था। इस पहल से उत्साहित सैकड़ों ग्रामीण भगनडीहा में बैठक में शामिल होने के लिए एकत्र हुए। जन ने धनुष, तीर और तलवारें ढोईं। उन्हें संताल हल्स के नाम से जाना जाने लगा।

Sidhu Murmu & Kanhu Murmu – The Indian Freedom Struggle :-सिद्धू कान्हू ने अपने भाषण से भीड़ को मंत्रमुग्ध कर दिया। उन्होंने कहा कि मिट्टी, हवा, पानी, वनस्पति और जीव-जंतु सब कुछ उन्हीं का है। और वे इस मातृभूमि के पुत्र हैं। और इसलिए उन्हें अंग्रेजों के अवैध और अन्यायपूर्ण व्यवहार से नहीं मारा जाएगा। वे विदेशियों के कोड़े नहीं सहेंगे। वे या तो विदेशियों को भगा देंगे या अपनी आजादी के लिए लड़ते हुए मर जाएंगे।

इस तरह की वीरता के प्रदर्शन से उत्साहित होकर हजारों आदिवासी पुरुषों ने गोरों के खिलाफ लड़ने की कसम खाई। और फिर शुरू हुआ स्वतंत्रता संग्राम। वे अपने धनुष-बाण से खलनायक अंग्रेजों को मारने लगे। संथालों की श्रेष्ठता से अंग्रेज भयभीत थे। संताल हुलों की संख्या से अंग्रेज अभिभूत थे। सरकार ने इंग्लैंड में परिषद को एक पत्र भेजा और संताल हल्स पर अंकुश लगाने के लिए एक बड़ी सेना भेजने का अनुरोध किया।

इंग्लैंड में परिषद ने संताल हल्स पर अंकुश लगाने के लिए हथियारों और गोला-बारूद के साथ एक बड़ी सेना भेजकर तुरंत जवाब दिया। उच्च अधिकारियों ने आदेश दिया कि संतालों की न केवल जाँच की जानी चाहिए बल्कि उन्हें मार दिया जाना चाहिए। जैसे ही आदेश जारी किया गया, ब्रिटिश हथियारबंद लोगों ने संथालों पर हमला कर दिया। संताल हल्स ने अपने पारंपरिक धनुष और तीर के साथ तुरंत जवाब दिया। संथाल हल्स और ब्रिटिश हथियारबंद लोगों के बीच झगड़ा हुआ था। इस संघर्ष में कई सौ ब्रिटिश पुरुषों की जान चली गई।

यह 1855, 30 जून को था। मरे हुए लड़ाकों के खून से मिट्टी लाल हो गई थी। दुर्भाग्य से, धनुष और तीर आधुनिक तोपों और गोला-बारूद से मेल नहीं खा सके। आधुनिक हथियारों से लंबे समय तक लड़ना संभव नहीं था। संताल गिरने लगे और अंग्रेज अंधाधुंध फायरिंग करते रहे। एक दुखद स्थिति में, लड़ाई में सिद्धू कान्हू और 30,000 अन्य संताली सेनानी मारे गए।

मातृभूमि के प्यारे सपूतों सिद्धू और कान्हू और अन्य शहीदों ने उनकी गोद में जम कर अपनी आँखें हमेशा के लिए बंद कर लीं। भूमि खून से लाल दिखाई दी। क्रूर अंग्रेजों को कोई पछतावा नहीं हुआ। अंग्रेजों को हाल ही में एक बात का एहसास हुआ कि संथाल अपनी मातृभूमि के लिए अपने प्राणों की आहुति देने से नहीं हिचकिचाएंगे। अगर किसी को देशभक्ति सीखनी है तो संताल से बेहतर उदाहरण कोई नहीं हो सकता।

Sidhu Murmu & Kanhu Murmu – The Indian Freedom Struggle :- 1855 से, 30 जून को संताल क्रांति की स्मृति में संताल विद्रोह दिवस के रूप में मनाया जाता है। दुमका में सिद्धू कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय का नाम उन्हीं के नाम पर रखा गया है। भारत सरकार ने सिद्धू और कान्हू के सम्मान में 4 रुपये के टिकट भी जारी किए। सिद्धू मुर्मू और कान्हू मुर्मू के सम्मान में रांची में सिद्धू कान्हू पार्क नाम का एक पार्क है।

[ratings]

Leave a Comment

Your email address will not be published.