Loans – सभी Loans की पुरी जानकारी in Hindi

Loans – सभी Loans की पुरी जानकारी in Hindi

What is लोन – लोन क्या है

लोन लेने के बाद हमारा बहुत सारा काम आसन हो जाता है और हमारी सारी जरुरत भी पूरी हो जाती है। अभी के समय में लोन का कनेक्शन डायरेक्ट बैंक से होता है। क्योंकि बैंक आपको इंट्रेस्ट के सात लोन देता है और बहुत ही जल्दी लोन देता है। Loans – सभी Loans की पुरी जानकारी in Hindi

लोन आप कब लेते हैं, जब आपको बहुत जरूरत पड़ी है जैसे कि इलाज़ के लिए, सादी के लिए, घर बनाने के लिए, और बच्चों के पढाई आदि। इसे समय में लोन लेना पड़ता है क्योकि दोस्त आपको इतना बड़ा  रकम नहीं दे सकता है। लेकिन आपको बैंक जल्दी लोन दे सकती है।

लोन के 3 मुख्य बातें

  1. Loan लिया गया राशि (Principal)
  2. ब्याज का दर (Rate of Interest)
  3. कब तक के लिए लोन चाहिए (Loan की अवधि या समय)

जब आपको किसी से भी लोन लेना हो चाहे वो बैंक से हो, या किसी आदमी से, वो जो पैसा आप ले जाते हैं उसे Principal Amount या फिर लिया गया राशि कहा जाता है। इसमे आपको लोन भी जमा करना होता है और ब्याज भी देना होता है।

लोन लिया गया राशि में बयाज का दर भी जोड़ कर दिया जाता है। आप लोन लेते हैं या किसी को देते हैं तो उसमें Interest (बयाज) जोड़ दिया जाता है। जब आप बैंक में लोन जमा करेंगे तो आपको लोन भी जमा करना होगा और ब्याज भी। इसे को बजाज का दर या Rate of Interest कहा जाता है।

मान लिजिए अपने लोन लेया और वो आपको एक समय देता है जिसके अंदर आपको पैसा लौटाना होता है। उसी को लोन अवधि कहते हैं या Loan Duration कहते हैं। Loans – सभी Loans की पुरी जानकारी in Hindi

लोन को दो भागो में बटा गया है

Secured
Unsecured

1.Secured:- Secured Loan हमे उसको कहते हैं, जो बंधक होता है। Security क तरह वो भी धन के रूप में जैसे की संपत्ति के रूप में, गोल्ड के रूप में या Fixed Deposit आदि।

2.Unsecured:- Unsecured Loan हमे उसको कहते हैं, जो पर्सनल लोन के तरह होता है। इसमें आपको कोई security नहीं लगता है। आपको लोन मिल जाएगा बैंक से बिना security के बैंक देता है।

Loans के प्रकार (Types of Loan)

  1. Secured Loans
    Personal LoanEducation Loan
  2. Unsecured Loans
    Home LoanCar Loan
    Gold Loan
    Business Loan

Personal Loan

Personal Loan का लाभ उसको दिया जाता है, जब एक व्यक्ति को बहुत ज्यादा जरूरत है और उसको उसके जरुरात के हिसाब से दिया जाता है। ये पर्सनल लोन तब काम आता है जब आप मुसीबत में पड़ जाते हैं, तब आपको बैंक से या NBFC मतलब Non- Banking Financial Company लोन मिल जाता है।

Education Loan

Education Loan हम उसको कहते हैं जो Student Apply करते हैं, अपने पढ़ाई को पुरा करने के लिए। भारत में लग भाग सभी बैंक और NBFC लोन का ऑफर देता है। वैसे भी आज के टाइम में एजुकेशन की किमत बहुत बढते जा रही है, ऐसे में एजुकेशन लोन ही वह एक रास्ता बचता है।

Home Loan

हर इंसान का एक सपना होता है की उसका एक घर हो, उसके सर के ऊपर एक छत हो, ये बहुत बड़ा सपना होता है। हर इंसान चाहता है कि वो खुद का घर बनेगा, और याद वो सारा पुंजी लगा भी दे तो भी पूरा नहीं हो पाता है। और इस सपना को पूरा करने के लिए हमको Home Loan की जरूरत पडती है।

Car Loan

आज के समय में सब चाहते ही उसके उसके पास खुद की कार हो। लेकिन समय पर नहीं खरीद पाता है हर समय आपके पास इतना अच्छा पैसा नहीं होता है। अगर आपको कार लोन चाहिए तो बहुत सारे बैंक कार लोन ऑफर करता है, ऐसा करके लोन ले सकते हैं। हां फिर आप EMIs का विकल्प है धीरे-धीरे कर के लोन चुक्का सकता है।

Gold Loan

गोल्ड लोन भी Secured लोन होता है। गोल्ड लोन बैंक के दुआरा दिया जाता है, गोल्ड सिक्योरिटी के बदले में। बैंक आपको लोन देगा और उसके बदले में आपको सोना, गहने आपको उनको देना होगा। जब आप लोन वापस लोटा देंगे तब आपको अपना सोना और गहने दिया जायेगा।

लोन का विवरण

लंबी अवधि -3 वर्ष तक

मध्यम अवधि -1-3 वर्ष तक

शॉर्ट टर्म -1 साल तक

लोन लेने की योग्यता

विवरण वेतनभोगी स्वयं कार्यरत
उम्र (Min-Max) 23 उम्र से 58 उम्र 28 उम्र  से 65 उम्र
Income(आय) Rs.25000 न्यूनतम कारोबार Rs.40 lakhs हो
सिबिल स्कोर 750. से ऊपर 750. से ऊपर

 

लोन आवेदन के लिए दस्तावेज़

वेतनभोगी स्वयं कार्यरत
आवेदन पत्र फोटो  के साथ आवेदन पत्र फोटो के साथ
पहचान और निवास प्रमाण पहचान और निवास प्रमाण
पिछले 6 महीनों के बैंक स्टेटमेंट पिछले 6 महीनों के बैंक स्टेटमेंट
प्रोसेसिंग फीस चेक प्रोसेसिंग फीस चेक
नवीनतम वेतन पर्ची व्यवसाय का प्रमाण
फॉर्म 16 पिछले 3 वर्षों का लाभ / हानि और बैलेंस शीट

 

EMI Calculator

EMI Calculator एक लोन कैलकुलेटर होता है जिसे आप ब्याज कैलकुलेट करने के लिए इस्तमाल करते है। Principal loan amount (P), Time Duration (N), Rate of Interest (R) इस से आप EMI कैलकुलेटर मे लोन राशि की Calculation कर सकते हैं।

लोन कैसे Apply करें

लोन कैसे Apply करें बैंक में, इसका बहुत ही आसन तारिका है। इसे आप ऑन लाइन भी apply कर सकते हैं और ऑफ लाइन वी apply कर सकते हैं, इसे आपको बैंक मैनेजर से बात करना होगा। लोन apply करना से पहले अपना घर का खर्चा देख ले इसके बाद निर्णय ले क्योकि बाद में आपको लोन भी चुकाना होता है।

लोन में 4C का क्या मतलब होता है

1.Character

Character का मतलब होता है चरित्र, आपका बैंक आपका सारा हिस्ट्री चेक किया जाता है। व्यक्ति कैसा है, उसका व्यवहार कैसा है, आपका क्रेडिट स्कोर चेक किया जाता है, सिबिल स्कोर चेक किया जाता है।

  1. Capacity

Capacity का मतलब होता है क्षमता, आपका अपना काम करके कितना पैसा बना सकता है और लोन को चुक्का सकते है। अगर याद आप बिजनेस करते हैं और आपके पास झमता है लोन चुकाने का तब आपको लोन मिल सकता है।

3.Capital

Capital का मतलब होता है पैसा, या धन संपति। अगर आपका कंपनी लोन नहीं चुक्का पती है तो आपको आपका धन सम्पति बेचना पड़ सकता है। और इसमे बैंक का भी घटा हो सकता है। Loans – सभी Loans की पुरी जानकारी in Hindi

4.Collateral

Collateral का मतलब होता है धन, एक कंपनी का मालिक को लोन सुरक्षा करने के लिए गिरवी रखना होता है। आप अपना क्रेडिट स्कोर अच्छा रखे, और अच्छा पैसा बनाये आपने कंपनी से। तकी आप लोन चुक्का सके और बैंक का नुकसान भी ना हो और आपका संपति भी सुरक्षित रहे।

आपको यह भी पसंद आएगा:-
इंश्योरेंस क्या है
SEO Marketing

[ratings]

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.